Shubham Yadav prime Islamic Research entrance examination turn out to be first non-Muslim in nation


राजस्थान के शुभम यादव (21 साल) ने इस्लामिक स्टडीज के लिए होने वाले एग्जाम को टॉप किया है. शुभम का टॉप करना इसलिए खास बन गया है क्योंकि वह ऐसा करनेवाले देश के पहले गैर-मुस्लिम बन गए हैं.

exam

राजस्थान के शुभम यादव (21 साल) ने इस्लामिक स्टडीज में प्रवेश के लिए होने वाले एग्जाम को टॉप किया है. शुभम का टॉप करना इसलिए खास बन गया है क्योंकि वह ऐसा करनेवाले देश के पहले गैर-मुस्लिम बन गए हैं. शुभम यादव अलवर के रहनेवाले हैं और उन्होंने इस्लामिक स्टडीज के लिए होने वाले सेंट्रल यूनिवर्सिटी कॉमन टेस्ट में टॉप किया है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, दिल्ली यूनिवर्सिटी से फिलोसोफी में ग्रेजुएशन करनेवाले शुभम इस्लाम धर्म को गहराई से समझना चाहते हैं.

बंटे हुए समाज को जोड़ना चाहते हैं शुभम

खबर के मुताबिक, शुभम ने कहा, ‘इस्लाम को लेकर कई भ्रांतियां हैं, मुझे लगता है कि यह धर्म सबसे ज्यादा गलत समझा गया धर्म है. दुनियाभर के नेता इस्लाम पर बात करते हैं, इसलिए मुझे आगे पढ़ाई में इसके अध्यन की इच्छा हुई.’ उन्होंने कहा कि धुव्रीकरण के दौर में वह समाजों के बीच पुल का काम करना चाहते हैं.

माता-पिता को शुभम की सुरक्षा की चिंता

शुभम के पिता व्यापारी हैं और मां घर की देखभाल करती हैं. फिलहाल उनके माता-पिता को सबसे ज्यादा चिंता सुरक्षा की है. क्योंकि शुभम को आगे पढ़ाई के लिए कश्मीर जाना होगा. शुभम ने बताया कि देश की 14 सेंट्रल यूनिवर्सिटी में से सिर्फ कश्मीर के कॉलेज में इस्लामिक स्टडीज की पढ़ाई होती है. इसलिए उन्हें दो साल के लिए वहीं रहना होगा. शुभम ने कहा कि वह पहले भी कश्मीर जा चुके हैं और उन्हें वहां के लोग काफी दोस्ताना लगते हैं, इसलिए उन्हें वहां रहने में कोई परेशानी नहीं आएगी.



Supply hyperlink

Recommended For You

About the Author: newsindianow

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *