Rajasthan Disaster : सीएम गहलोत का दावा- सत्र की तारीख आते ही हॉर्स ट्रेडिंग का ‘रेट’ बढ़ा | jaipur – Information in Hindi


सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने कहा कि जब से 14 अगस्त को विधानसभा सत्र की तारीख आई है, विधायकों के पास फोन आने लगे हैं. अब हॉर्स ट्रेडिंग का रेट बढ़ गया है. पहले 10, 15, 25 करोड़ की कीमत थी, अब अनलिमिटेड हो गई है.

जयपुर : राजस्थान (Rajasthan) में जारी सियासी संकट (Political Disaster) के बीच तरह-तरह के बयान सामने आ रहे हैं. सत्ता के इस संग्राम में सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट (CM Ashok Gehlot and Sachin Pilot) के खेमे के नेता एक-दूसरे पर लगातार हमले कर रहे हैं. इसी बीच सीएम अशोक गहलोत ने बागियों को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि जो लोग गए हैं, उनमें से पता नहीं किन-किन लोगों ने पहली किस्त ली है. कइयों ने पहली किस्त अभी नहीं ली है. उन्होंने कहा कि जो गए हैं उन्हें वापस आना चाहिए.

सत्र की तारीख आई तो विधायकों के पास फोन आने लगे

सीएम ने कहा, कल जब से 14 अगस्त को विधानसभा सत्र की तारीख आई है, विधायकों के पास फोन आने लगे हैं. अब हॉर्स ट्रेडिंग (horse buying and selling) का रेट बढ़ गया है. पहले 10, 15, 25 करोड़ की कीमत थी, अब अनलिमिटेड हो गई है. इस मामले में बीजेपी एक्सपोज हो गई है. हॉर्स ट्रेडिंग के लिए बीजेपी के नेता छिपकर दिल्ली जाते हैं. अगर उनके दिल्ली जाने के पीछ नीयत सही है तो छिप-छिप कर दिल्ली क्यों जा रहे हैं. इस बार हम बीजेपी को एक्सपोज करके रहेंगे.

फ्लोर टेस्ट भी होगा विधानसभा सत्र मेंसीएम अशोक गहलोत ने यह भी कहा कि विधानसभा सत्र में फ्लोर टेस्ट होगा. कोरोना पर भी चर्चा होगी. विधानसभा की कार्य सलाहकार समिति कामकाज तय करेगी. उन्होंने कहा, बीजेपी फासिस्ट है. राजनीतिक संकट की वजह से तनाव को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं हमेशा ऐसे ही खुश रहता हूं. उन्होंने जोड़ा कि राजस्थान देश की राजनीति का टर्निंग पॉइंट बन सकता है, अगर मीडिया साथ दे तो.

परिवहन मंत्री का पायलट पर हमला

इससे पहले राजस्‍थान के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने सरकार और पार्टी से बगावत करने वाले पूर्व पीसीसी चीफ एवं डिप्टी सीएम सचिन पायलट पर तीखा हमला बोला था. खाचरियावास ने न केवल पायलट पर तंज कसा, बल्कि उन पर जबर्दस्त तरीके से भड़के भी. खाचरियावास ने कहा था कि सचिन पायलट मेरे खिलाफ बयान दिलवा रहे हैं. जब वे निकर में घूमते थे, तब मैं राजस्थान यूनिवर्सिटी का अध्यक्ष था. पायलट को पार्टी ने अध्यक्ष बनाकर भेजा तो उनके साथ मैंने भी काम किया है, लेकिन वे और उनके साथी पार्टी से गद्दारी कर रहे हैं. मैं यहां पैदा हुआ हूं, कभी पार्टी से गद्दारी नहीं करूंगा. खाचरियावास यहीं नहीं रुके और आगे कहा कि मैंने अपने खून पसीने से अपना इतिहास लिखा है. बकौल खाचरियावास, मुझे लड़ना भी आता है और हिसाब-किताब बराबर करना भी आता है. उल्लेखनीय है कि हाल ही में पायलट खेमे के विधायक मुकेश भाकर ने एक वीडियो जारी करके कहा था कि खाचरियावास पायलट की मेहरबानी से ही मंत्री और जिलाध्यक्ष बने हैं.





Supply hyperlink

Recommended For You

About the Author: newsindianow

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *