ज्वैलरी कारोबारी ने अपने पूरे परिवार के साथ फांसी लगाकर दी जान, ब्याज पर लिया था कर्ज | jaipur – Information in Hindi


आत्महत्या (Suicide) करने वालों में पति-पत्नी और उनके दो बच्चे शामिल हैं. प्रारंभिक जानकारी के अनुसार, परिवार ने कर्ज के कारण ये कदम उठाया है.

जयपुर. राजस्थान की राजधानी जयपुर (Jaipur) में एक बड़ी खबर सामने आई है. यहां के कानोता थाना (Kanota Police Station) क्षेत्र के जामडोली (Jamdoli) स्थित श्याम विहार में एक परिवार ने सामूहिक रूप से फांसी लगाकर आत्महत्या (Suicide) कर ली. इस घटना से पूरे जयपुर जिले में सनसनी फैल गई है. वहीं, सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने सभी शवों को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. साथ ही मामले की जांच भी शुरू कर दी गई है.

जानकारी के मुताबिक, आत्महत्या करने वालों में पति-पत्नी और उनके दो बच्चे शामिल हैं. प्रारंभिक जानकारी के अनुसार, परिवार ने कर्ज के कारण ये कदम उठाया है. वहीं, घटना की सूचना मिलने पर पुलिस के आलाधिकारियों की टीम मौके पर पहुंच गई.  इसके साथ ही एफएसएल टीम को भी बुलाया गया. पुलिस के अनुसार, राधिका विहार निवासी यशवंत सोनी (45 साल), उनकी पत्नी ममता सोनी( 41 साल) और  बेटा भारत सोनी (20 साल)  और अजीत सोनी (23 साल) ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली है. स्थानीय थाना पुलिस ने बताया कि परिवार ज्वैलरी का काम करता था. बताया जा रहा है कि परिवार ने किसी से ब्याज पर पैसे ले रखे थे, जिसके कारण परिवार ने परेशान होकर फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली. वहीं, पुलिस इस मामले में three लोगों से पूछताछ भी कर रही है.

दिल्ली में  11 सदस्यों ने अपने ही घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी
बता दें कि साल 2018 में इसी तरह का मामला देश की राजधानी दिल्ली में सामने आया था. तब दिल्ली के बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 सदस्यों ने अपने ही घर के अलग-अलग कमरों में आत्महत्या कर ली थी. सभी लोगों के शव घर में लटके हुए मिले थे. हालांकि, बाद में यह पता चला था कि तांत्रिक विद्या के चलते परिवार के इन सभी सदस्यों ने आत्महत्या की थी. तब यह घटना कई दिनों तक मीडिया में छाई रही थी. वहीं, शुरुआत में उस घर के पास से भी लोग गुजरने से कतराते थे.





Supply hyperlink

Recommended For You

About the Author: newsindianow

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *