गहलोत सरकार ने फिर जारी किया सरकारी खर्चों में कटौती का परिपत्र, जानिए किन खर्चों पर लगेगी लगाम | jaipur – Information in Hindi


जयपुर. प्रदेश की गहलोत सरका (Gehlot Authorities)र ने एक बार फिर परिपत्र जारी कर राजकीय व्यय में कटौती (Expense Discount) करने के निर्देश दिए हैं. वित्त विभाग के सर्कुलर के बाद अब राज्य सरकार ने सरकारी खर्चों में कटौती का परिपत्र जारी किया है. कोविड-19 महामारी के कारण राज्य के वित्तिय संसाधनों पर पड़ने वाले असाधारण प्रभाव को ध्यान में रखते हुए यह परिपत्र जारी किया है.

अतिरिक्त मुख्य सचिव, वित्त, निरंजन आर्य ने बताया कि सरकार को कोविड-19 महामारी की चुनौती से लड़ने के लिए राज्य के सीमित संसाधनों का समुचित उपयोग करना होगा. पूर्व में जारी किए गए मितव्ययता परिपत्रों की निरंतरता में यह दिशा-निर्देश तुरंत प्रभाव से जारी किये जा रहे हैं.

Rajasthan: जल्द बनाई जायेगी राज्य गैस नीति-2020, इन बातों पर रहेगा फोकस, तैयारियों में आई तेजी

परिपत्र में क्या हैं खास बातें1.कार्यालय व्यय, यात्रा व्यय, कम्प्यूटर अनुरक्षण, स्टेशनरी, मुद्रण एवं लेखन, प्रकाशन, पुस्तकालय और पत्र-पत्रिकाओं पर व्यय के लिए उपलब्ध धनराशि का व्यय 70 प्रतिशत कटौती की जाएगी.पीओएल मद में स्वीकृत प्रावधान के विरूद्ध व्यय को भी 90 प्रतिशत तक सीमित किया जाएगा.

2.इकोनॉमी क्लास में ही हवाई यात्रा कर सकेंगे अधिकारी.  शासकीय कार्याें के लिए की जाने वाली यात्राओं को न्यूनतम रखा जाएगा. यथा संभव वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठकें आयोजित की जाएंगी.

3.हवाई यात्रा के लिए अधिकृत अधिकारी इकोनॉमी क्लास में ही यात्रा करेंगे. एक्जीक्यूटिव एवं बिजनेस क्लास में यात्रा पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगी.

4. विमान किराए पर लेना और राजकीय व्यय पर विदेश यात्रा पर भी पूरी तरह प्रतिबंध होगा. नए वाहन एवं अन्य उपकरणों की खरीद पर प्रतिबंध होगा. परिपत्र में नए वाहनों की खरीद प्रतिबंधित की गई है.

जोधपुर में कोरोना की रफ्तार हुई बेकाबू, एक दिन में सरकारी कर्मचारी और भाजपा नेता सहित आठ की मौत

राजकीय भोज पर रहेगा प्रतिबंध
सभी राजकीय कार्यक्रम, भूमि पूजन, उद्घाटन समारोह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ही आयोजित किए जाएंगे. राजकीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों को देय उपार्जित अवकाश के एवज में नकद भुगतान की नई स्वीकृतियां इस वित्तीय वर्ष में स्थगित रखी जाएंगी. वहीं सभी प्रकार के प्रशिक्षण, सेमिनार, कार्यशाला, उत्सव एवं प्रदर्शनियों का आयोजन यथासंभव ऑनलाइन किया जाएगा.अति-आवश्यक परिस्थितियों में इनका आयोजन राजकीय संस्थाओं, शासकीय भवनों या राजकीय परिसर में ही किया जा सकेगा.





Supply hyperlink

Recommended For You

About the Author: newsindianow

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *